UPI Payment Charges: यूपीआई द्वारा किए गए किस लेनदेन पर लगेगा चार्ज और किस पर नहीं, आइए समझते हैं UPI पेमेंट की हर बात को

UPI Payment Charges: (NPCI) नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया ने यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) पेमेंट से संबंधित नई आदेश जारी किए हैं। NPCI के इस सर्कुलर के आदेशों के मुताबिक 2,000 रुपए से अधिक के सभी UPI लेन देन, जो पीपीआई अथवा वॉलेट के द्वारा होंगे, उनपर 1.1% का इंटरचेंज शुल्क मर्चेंट को चुकाना होगा। यह आदेश 1 अप्रैल 2023 से पुरे भारतवर्ष में लागू किया जाएगा। NPCI के इस आदेश पर मीडिया में बहुत सी ग़लत बातें फैलाई जा रही हैं, लेकिन आप विस्तार से वास्तविकता जानने के लिए हमारी इस खबर को पूरा पढ़ें।

UPI Payment Charges: NPCI क्या है?

UPI Payment Charges: NPCI (National Payments Corporation of इंडिया) यानी भारतीय राष्ट्रीय भुगतान नियम, पेमेंट और सेटलमेंट सिस्टम अधिनियम, 2007 के प्रावधान के तहत रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया और इंडियन बैंक्स एसोसिएशन की एक पहल है। यह रिटेल पेमेंट्स एवं सेटलमेंट सिस्टम को संचालित करने वाला एक अंबरेला आर्गेनाईजेशन है। इसे कंपनी अधिनियम 2013 की धारा-8 के तहत “एक गैर लाभकारी कंपनी” के रूप में निगमित किया गया है।

UPI Payment Charges: इस ऑर्गेनाइजेशन का मुख्य उद्देश्य है, देश में एक मजबूत पेमेंट एवं सेटलमेंट इंफ्रास्ट्रक्चर को निर्मित करना, तकनीक के प्रयोग के जरिये रिटेल पेमेंट सिस्टम मे नवाचार लाकर पेमेंट सिस्टम के संचालन मे दक्षता हासिल करना, पेमेंट सिस्टम को ज्यादा लोगों तक पहुचाकर भारत को कैशलेस सोसाइटी में तब्दील करना । इसके अंतर्गत विभिन्न उत्पाद आते हैं जैसे RuPay, UPI, BHIM, AEPS, IMPS, NACH, नफ़्स और Bharat billpay।

UPI Payment Charges: UPI क्या है ?

UPI Payment Charges: UPI (यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस) यह 24×7 काम करने वाली तकनीक है। इसकी मदद से तुरन्त आसानी से एक बैंक खाते से दूसरे में पैसे भेजे जा सकते है। वो भी बिना खाता नंबर और आई एफ इस सी कोड डाले सिर्फ मोबाइल की मदद से। इसके लिए आपको फोन में गूगल पे या भारत पे जैसे किसी भी एक एप्लीकेशन को डाउनलोड करना होगा। उसके बाद उसे अपने बैंक अकाउंट से लिंक करके आप इसका आसानी से उपयोग कर सकते है।

एनपीसीआई के नए आदेश क्या हैं?

UPI Payment Charges: NPCI के नए आदेश के मुताबिक UPI वॉलेट, गिफ्ट कार्ड, प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट्स (पीपीआई) से 2000 से अधिक के UPI ट्रांजेक्शन पर 1.1% शुल्क लगेगा। यह इंटरचेंज शुल्क सिर्फ पीपीआई ट्रांजेक्शन पर मर्चेंट को लगेगा, न की ग्राहक पर।

UPI भुगतान पर कोई चार्ज नही। NPCI ने दिया स्पष्टीकरण

मौजूदा कानून के मुताबिक बैंक या कोई दूसरी UPI सर्विस प्रोवाइडर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष से UPI के माधयम से भुगतान करने या हासिल करने वाले पर कोई शुल्क नहीं लगा सकत। NPCI ने स्पष्ट किया है कि यूपीआई ट्रांजेक्शन चार्ज में किसी भी प्रकार का कोई भी बदलाव नहीं किया गया है। साथ ही NPCI ने स्पष्ट किया है ने कि ग्राहक द्वारा किए गए UPI संबंधी लेन देन पर इसका कोई भी प्रभाव नहीं पड़ेगा।

UPI Payment Charges: दरअसल मीडिया में ऐसी कई अटकले लगाई जा रही थीं, जिनके मुताबिक ग्राहक को 1 अप्रैल से यूपीआई के जरिए पेमेंट करने पर 1.1 फीसदी चार्ज देना होगा। एनपीसीआई ने इस प्रकार की सभी खबरों को खारिज करते हुए कहा है की UPI यूजर्स को 1.1 फीसदी फीस वाली तमाम खबरों से परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है। इसी विषय में पुष्टि करते हुए एनपीसीआई ने ग्राहकों कहा है- “यूपीआई ट्रांजेक्शन फीस में ग्राहकों के लिए कोई बदलाव नहीं किया गया है।”

UPI Payment Charges: नए रूल में किस मर्चेंट को कितना इंटरचेंज शुल्क देना होगा?

NPCI के आदेश के मुताबिक PPI (प्रीपेन पेमेंट इंटरफेस) के अंतर्गत मर्चेंट टू मर्चेंट ट्रांजेक्शन पर भिन्न भिन्न ट्रांजेक्शन के लिए अलग अलग इंटरचेंज शुल्क का भुगतान करना होगा। 0.5% से लेकर 1.1% तक, निचे लिखे कुछ ट्रांजेक्शन पर इंटरचेंज शुल्क है:

ईंधन पर – 0.5%

कृषि / दूरसंचार / डाकघर / शिक्षा उपयोगी ट्रांजेक्शन पर   – 0.7%

सुपरमार्केट में – 0.9%

म्यूचुअल फंड्स / सरकारी / रेलवे / बीमा पर – 1%

स्पेशल रीटेल आउटलेट / खाद् पर -1.1%

UPI Payment Charges: आइये जानते हैं इसका आम जनता पर इसका क्या असर होगा?

ये इंटरचेंज शुल्क सिर्फ और सिर्फ मर्चेंटस पर लगने वाला शुल्क है। एनपीसीआई के इस सर्कुलर से स्पष्ट तोर पर कहा है इसका ग्राहक से कोई लेना देना नहीं हैं। इस लिए आम जनता पर National Payments Corporation of india के इस आदेश का ज्यादा असर नहीं होगा।



FAQs UPI Payment

Q: यूपीआई क्या है?

A: UPI का मतलब यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस है। यह भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) द्वारा विकसित एक वास्तविक समय भुगतान प्रणाली है जो उपयोगकर्ताओं को अपने मोबाइल फोन का उपयोग करके तुरंत बैंक खातों के बीच धन हस्तांतरित करने की अनुमति देती है।

Q: क्या यूपीआई का उपयोग करने के लिए कोई शुल्क है?

A: UPI भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) द्वारा प्रदान की जाने वाली एक निःशुल्क सेवा है। हालाँकि, कुछ बैंक कुछ लेन-देन के लिए मामूली शुल्क ले सकते हैं जैसे कि एक निश्चित सीमा से ऊपर के फंड ट्रांसफर, डेबिट कार्ड लिंकिंग या वर्चुअल पेमेंट एड्रेस जारी करना।

Q: मैं यूपीआई के माध्यम से कितना ट्रांसफर कर सकता हूं?

A: एनपीसीआई ने रुपये की सीमा तय की है। 1 लाख प्रति लेनदेन और रु। UPI लेनदेन के लिए प्रति बैंक खाता प्रति दिन 1 लाख। हालाँकि, व्यक्तिगत बैंकों की अपनी लेनदेन सीमाएँ हो सकती हैं।

Q: क्या यूपीआई का उपयोग करके पैसे ट्रांसफर करने पर कोई शुल्क लगता है?

A: अधिकांश बैंक यूपीआई लेनदेन के लिए कोई शुल्क नहीं लेते हैं। हालांकि, कुछ बैंक कुछ प्रकार के लेन-देन के लिए मामूली शुल्क ले सकते हैं, जैसे कि एक निश्चित सीमा से ऊपर फंड ट्रांसफर।

Q: क्या डेबिट कार्ड को यूपीआई से लिंक करने के लिए कोई शुल्क लगता है?

A: कुछ बैंक डेबिट कार्ड को यूपीआई से लिंक करने के लिए मामूली शुल्क ले सकते हैं। हालांकि, कई बैंक यह सेवा मुफ्त में देते हैं।

2 thoughts on “UPI Payment Charges: यूपीआई द्वारा किए गए किस लेनदेन पर लगेगा चार्ज और किस पर नहीं, आइए समझते हैं UPI पेमेंट की हर बात को”

Leave a Comment